Blog

Tanhai Shayari | तन्हाई शायरी ( Loneliness shayari )


हेलो फ्रेंड्स, हमारी वेबसाइट parshushayari.in  में आपका स्वागत है, दोस्तों इस पोस्ट में आपको " तन्हाई /अकेलेपन की शायरी (Loneliness Shayari) पढने और सोशल मीडिया साइट्स जैसे Whatsapp Facebook पर शेयर करने को मिलेंगे।
इस पोस्ट के शायरी में अकेला सफर, रिश्ते, दोस्त और मुहब्बत के दूरी का दर्द लिखा है।
इस वेबसाइट में तन्हाई कोट्स (Loneliness Quotes) भी अलग पोस्ट में लिखे हुए है जिसे जरुर पढ़ना। 

तन्हाई शायरी [Loneliness Shayari]:



अकेला हूँ मै-


Loneliness shayari
Loneliness Shayari 

तो क्या हुआ गर_साथ कोई नहीं,
अकेला हूँ मै तो अकेला ही सही।

To Kya Hua Gar_"Saath" Koee Nahin, "Akela" Hoon Mai To Akela Hee "Sahee".
~~~



मै अकेला-


सबमे भी मै अकेला किसी का ना रहा।
अकेले में भी मै खुद का ना रहा।

sabame bhee mai akela kisee ka na raha. akele mein bhee mai khud ka na raha.

•••




बताना जरूरी समझता-


Loneliness shayari


कहां जाता हूँ? क्या करता हूँ?
किसी को बताना जरूरी समझता,
अगर किसी की मै जिम्मेदारी होता।

kahaan jaata hoon? kya karata hoon? kisee ko bataana jarooree samajhata, agar kisee kee mai jimmedaaree hota.
~~~



तनहाई-


प्यार नहीं तो नहीं तेरी नफरत ही सही,
मनाने और शिकायत की हमें आदत नहीं,
चलेगी तू नहीं तो नहीं,
तेरी यादें है सही।

pyaar nahin to nahin teree napharat hee sahee, manaane aur shikaayat kee hamen aadat nahin, chalegee too nahin to nahin, teree yaaden hai sahee.

~~~




मैं अनाथ-


loneliness Shayari
Tanhai

क्या किसी ने पूछा है?
मै कैसा हूँ? कहा हूँ?
मै किस हालत मे हूँ?
कहने को तो बहुत है मेरे अपने,
फिर भी मै अनाथ हूँ।

kya kisee ne poochha hai? mai kaisa hoon? kaha hoon? mai kis haalat me hoon? kahane ko to bahut hai mere apane, phir bhee mai anaath hoon.
•••



अकेला मै तन्हा-


अकेला मै तन्हा, पल-भर के लिए 
मुस्कुरा लिया।
कोई अंजान था, जो अभी-अभी मेरा 
हाल पूछ लिया।

akela mai tanha, pal-bhar ke lie muskura liya. koee anjaan tha, jo abhee-abhee mera haal poochh liya.

~~~~~~


अकेलापन ही जरूरी लगता है-


Loneliness shayari
Loneliness shayari

अकेलापन ही जरूरी लगता है...
अब किसी का सहारा नहीं... 
सब झूठे और मक्कार मिले है...
अब किसी का मुंह देखना भी गवारा नहीं...

akelaapan hee jarooree lagata hai... ab kisee ka sahaara nahin... sab jhoothe aur makkaar mile hai... ab kisee ka munh dekhana bhee gavaara nahin...
~~~~~~~~~~~~~~~~~~


गम-


दुनिया में इंसान अकेले आता है,
अकेले ही जाता है,
पर वो गम में तो तब होता है,
जब वो अपनों के बिना अकेले ही जीता है।

duniya mein insaan akele aata hai, akele hee jaata hai, par vo gam mein to tab hota hai, jab vo apanon ke bina akele hee jeeta hai.

•••



सबने गलत समझा है-


loneliness Shayari
Loneliness 

मै तो तन्हा था, 
और सबने इस तनहाई को गलत समझा है।
क्या कहू किसने क्या समझा है, 
सबने मुझे गलत ही समझा है,

mai to tanha tha, aur sabane is tanahaee ko galat samajha hai. kya kahoo kisane kya samajha hai, sabane mujhe galat hee samajha hai,
•••



तनहा मै-


रंज ही कुछ ऐसे, जी भरकर रो ना सका।
तनहा मै, किसी पर गुस्सा भी निकाल न सका।

ranj hee kuchh aise, jee bharakar ro na saka. tanaha mai, kisee par gussa bhee nikaal na saka.

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


तू नहीं फिर भी...अकेला हूँ-


तूने दिए जख्मों से भी, देख...
मै कितनी मोहब्बत करता हूँ,
तू नहीं है फिर भी मै,आज...
अकेला हूँ!!!

toone die jakhmon se bhee, dekh... mai kitanee mohabbat karata hoon, too nahin hai phir bhee mai,aaj... akela hoon!!!




मै नजरों से उतर गया-


Loneliness shayari
Loneliness shayari 

आज फिर से मैं उसी रास्ते पर आ पहुँचा,
उतरकर भी बसा था किसी की नजरों में,
लो आज फिर से उतर गया।

aaj phir se main usee raaste par aa pahuncha, utarakar bhee basa tha kisee kee najaron mein, lo aaj phir se utar gaya.

~~~



साजिशे नहीं आती मुझे-


झूठ बोलकर कुछ पाने से ज्यादा मै खोना जानता हूँ,
साजिशे नहीं आती मुझे,
मै तो हकीकत लिखता हूँ,

jhooth bolakar kuchh paane se jyaada mai khona jaanata hoon, saajishe nahin aatee mujhe, mai to hakeekat likhata hoon,

~~~



जैसे मै एक काफ़िर-


शायद गलत हूँ, पर तनहा भी हूँ,
बूरा ना मानो...
"आजकल मंदिर के सामने से
कुछ इस तरह से निकल जाता हूँ,
जैसे मै एक काफ़िर भी हूँ"

shaayad galat hoon, par tanaha bhee hoon, boora na maano... "aajakal mandir ke saamane se kuchh is tarah se nikal jaata hoon, jaise mai ek kaafir bhee hoon"

~~~~~~~~~~~~


दूर ही रहने लगा हूँ मै सबसे-


Loneliness shayari
Loneliness shayari

दूर ही रहने लगा हूँ मै सबसे,
कयोकी सब दूर चले जाते है मुझसे,

door hee rahane laga hoon mai sabase, kayokee sab door chale jaate hai mujhase,
~~~~~~~~~~~~~~~~~~



अकेला-


अकेला रहता हूँ,
जहेर पी के जीता हूँ,
नही चाहता की जहेर मै पियु और मर कोई और जाये।

akela rahata hoon, jaher pee ke jeeta hoon, nahee chaahata kee jaher mai piyu aur mar koee aur jaaye.

~~~

Related post:-



कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Please do not enter any spam link in the comment box.