शराब शायरी ( Alcohol Shayari )


दोस्तों हमारे शायरी और कोट्स की विडियो देखने के लिए  हमारे युट्युब चैनल parshu shayari को देखिए।👇

https://youtube.com/c/ParshuShayari 

---------------------------------------


शराब शायरी ( Alcohol Shayari ):


शराब-


Alcohol shayari
Sharab-shayari 

हर शराबी बूरा नहीं होता,
पीकर बहक जाते है कुछ लोग,
हर कोई शौक से नहीं पीता।
तमीज भूलकर बत्तमीज बन जाते है कुछ लोग।

har sharaabee boora nahin hota, peekar bahak jaate hai kuchh log, har koee shauk se nahin peeta. tameej bhoolakar battameej ban jaate hai kuchh log.
______________



पीने के बाद वो ही याद-


न जाने मुझे आजकल क्या हो रहा है,
शराब थोडी ही पीता हूँ,
पर पीने के बाद वो ही याद आ रहा है। 

 na jaane mujhe aajakal kya ho raha hai, sharaab thodee hee peeta hoon, par peene ke baad vo hee yaad aa raha hai.


~~~



पीला ही देती है शराब-



Alcohol-Shayari
Sharab-shayari

कमबख़्त,
बेमुरौवत,
एक दिन पीला ही देती है शराब
मोहब्बत...

kamabakht, bemurauvat, ek din peela hee detee hai sharaab mohabbat...
~~~~



मयखाना बंद है ना कहीं है शराब-


मयखाना बंद है
ना कहीं है शराब
और उसमें तेरी यादें
मेरी तबियत है खराब 

mayakhaana band hai na kaheen hai sharaab aur usamen teree yaaden meree tabiyat hai kharaab


~~~~~~~~~~

                    


शराब-


Alcohol shayari
Alcohol shayari 

कुछ वक्त के लिए भुल तो सबकुछ जाउंगा,

अगर तू शराब के बारे में पूछता है,
तो उसे ना कैसे कहूँगा?

kuchh vakt ke lie bhul to sabakuchh jaunga, agar too sharaab ke baare mein poochhata hai, to use na kaise kahoonga?
•••


शराबी भी हूँ-


हाँ शराबी भी हूँ,
मयखाने में पीने आया हूँ, 
बूरा ना समझ साकी,
जख्मी हूँ, 
जख्म सीने आया हूँ,

haan sharaabee bhee hoon, mayakhaane mein peene aaya hoon, boora na samajh saakee, jakhmee hoon, jakhm seene aaya hoon,

~~~~~~~~~





जब कोई दवा नहीं होती-


alcohol shayari
Sharab shayari 

जब कोई दवा नहीं होती गम भुलाने की,
तब जरुरत होती है शराब पीने की।

jab koee dava nahin hotee gam bhulaane kee, tab jarurat hotee hai sharaab peene kee.
•••
                  

तेरी यादें और शराब-



Alcohol shayari
Alcohol shayari 

थोडी ही पीता हूँ, पर चडती बहुत है,
कैसे मरहम कहूँ इस शराब को,
इस मरहम से भी तेरी यादें सौ गुना बढ़ती है।

thodee hee peeta hoon, par chadatee bahut hai, kaise maraham kahoon is sharaab ko, is maraham se bhee teree yaaden sau guna badhatee hai.
~~~

दोस्तों हमारे शायरी और कोट्स की विडियो देखने के लिए  हमारे युट्युब चैनल parshu shayari को देखिए।👇

https://youtube.com/c/ParshuShayari 

---------------------------------------


0 Comments:

Please do not enter any spam link in the comment box.