गलती और माफी शायरी [ Mistake And Apology Shayari ]


हैलो दोस्तों, इस पोस्ट में गलती और माफी पर हिन्दी शायरी आपको मिलेगी। वैसे हर इंसान अपनी जिंदगी में गलतियां करता है तो कुछ अंजाने में हो जाती है। दोस्तों कभी-कभी लोगों की इन गलतियों से हम नाराज भी हो जाते है, वैसे एक "सॉरी" कहने से सारी नाराजगी दूर हो सकती है पर हर कोई अपनी गलती कबुल भी नहीं करता।
तो इन सारी बातों को मैने इस पोस्ट के शायरी में लिखा है। जिसे आपको अपने दोस्त या रिश्तेदारो के साथ शेयर करना अच्छा लगेगा।

दोस्तों अगर आपको गलती और माफी पर कोट्स/ विचार पढना है तो यह पोस्ट पढिए
गलती और माफी कोट्स ( Mistake And Apology Quotes )

गलती और माफी शायरी [Mistake And Apology Shayari]:



कैसे माफ करूँ?



Mistake-And-Apology
Mistake-And-Apology

करूँ तो कैसे करूँ?
कोई बता दे मुझे,
दिल कैसे बड़ा करूँ?
जिसे अपनी गलती का अहसास ही नहीं
उसे क्या माफ करूँ?

karoon to kaise karoon? koee bata de mujhe, dil kaise bada karoon? jise apanee galatee ka ahasaas hee nahin use kya maaph karoon?
~~~




मै कयो माफ करूँ?


गलती तो की है उसने,
फिर भी माफी नहीं माँगेगी।
मै कयो माफ करूँ?
वो तो माफी ही नहीं माँगेगी।

galatee to kee hai usane, phir bhee maaphee nahin maangegee. mai kayo maaph karoon? vo to maaphee hee nahin maangegee.



~~~




ना दया ना माफी-


ना दया और ना माफी होती है,
राक्षस के लिए सिर्फ सजा होती है।

Na daya aur na mafi hoti hai
Rakshas ke liye sirf saja hoti hai
___________________




वक्त ही मेरा गलत-


Mistake and Apology shayari
Mistake and Apology shayari

ना मै गलत होता हूँ,
ना कोई और गलत होता है।
वक्त ही मेरा गलत,
मेरा वक्त ही किसी और का हो जाता है।

na mai galat hota hoon, na koee aur galat hota hai. vakt hee mera galat, mera vakt hee kisee aur ka ho jaata hai.
______________________




गवाही और इंसाफ-


गवाही सब लोग अलग-अलग भी देते है,
यहां सच लोग कम होते है।
इंसाफ यहां कुछ ऐसा भी मिलता है,
जहां लगत लोग सच,  तो सच लोग लगत भी साबीत होते है।

gavaahee sab log alag-alag bhee dete hai, yahaan sach log kam hote hai. insaaph yahaan kuchh aisa bhee milata hai, jahaan lagat log sach, to sach log lagat bhee saabeet hote hai.


~~~





कोई इतना भी ना गिरे


Mistake And Apology shayari
गलती और माफी

कोई इतना भी खुद की नजरों में ना गिरे,
के माफी माँगने के लायक ही ना रहे।

Koi etana bhi khud ki najaro me na gire 
Ke mafi mangane ke layak hi na rahe 
~~~




बेवकुफी की बात-


पहली बार हो जाती है गलती,
दूसरी बार भी इंसान से हो जाती है,
पर तीसरी बार भी वहीं गलती करना,
बेवकुफी की बात होती है।

pahalee baar ho jaatee hai galatee, doosaree baar bhee insaan se ho jaatee hai, par teesaree baar bhee vaheen galatee karana, bevakuphee kee baat hotee hai.
______________





डरता नही-

Mistake and Apology shayari
Mistake and Apology shayari

मै गलती करता ही नहीं,
इसलिए किसी के बाप से डरता भी नहीं।

Mai galati karata hi nahi 
Esliye kisi ke baap se darata bhi nahi 

■■■




मै उसे माफ भी नहीं करता-


अगर मेरी गलती ना हो,
तो मै माफी नहीं माँगता।
अगर कोई गलती करके भी माफी नहीं माँगता,
तो मै उसे माफ भी नहीं करता।

agar meree galatee na ho, to mai maaphee nahin maangata. agar koee galatee karake bhee maaphee nahin maangata, to mai use maaph bhee nahin karata.



~~~



0 Comments:

Please do not enter any spam link in the comment box.